।। श्रीहरिः ।।

आजकी शुभ तिथि
श्रावण शुक्ल पंचमीवि.सं.२०७१शुक्रवार
नागपंचमी
दुर्गतिसे बचो



 (गत ब्लॉगसे आगेका)
जो स्त्री पर-पुरुषका चिन्तन करती रहती है तथा जिसकी पुरुषमें बहुत ज्यादा आसक्ति होती हैवह मरनेके बाद ‘चुड़ैल’ बन जाती है । भूत-प्रेतोंका प्रायः यह नियम रहता है कि पुरुष भूत-प्रेत पुरुषोंको ही पकड़ते हैं और स्त्री भूत-प्रेत स्त्रियोंको ही पकड़ते हैंपरन्तु चुड़ैल केवल पुरुषोंको ही पकड़ती है । चुड़ैल दो प्रकारकी होती‒एक तो पुरुषका शोषण करती रहती है अर्थात् उसका खून चूसती रहती है,उसकी शक्ति क्षीण करती हैऔर दूसरी पुरुषका पोषण करती हैउसको सुख-आराम देती है । ये दोनों ही प्रकारकी चुड़ैलें पुरुषको अपने वशमें रखती हैं ।

एक सिपाही था । वह रातके समय कहींसे अपने घर आ रहा था । रास्तेमें उसने चन्द्रमाके प्रकाशमें एक वृक्षके नीचे एक सुन्दर स्त्री देखी । उसने उस स्त्रीसे बातचीत की तो उस स्त्रीने कहा‒मैं आ जाऊँ क्या सिपाहीने कहा‒हाँ, आ जा । सिपाहीके ऐसा कहनेपर वह स्त्रीजो चुड़ैल थीउसके पीछे आ गयी । अब वह रोज रातमें उस सिपाहीके पास आतीउसके साथ सोतीउसका संग करती और सबेरे चली जाती । इस तरह वह उस सिपाहीका शोषण करने लगी । एक बार रातमें वे दोनों लेट गयेपर बत्ती जलती रह गयी तो सिपाहीने उससे कहा कि तू बत्ती बन्द कर दे । उसने लेटे-लेटे ही अपना हाथ लम्बा करके बत्ती बन्द कर दी । अब सिपाहीको पता लगा कि यह कोई सामान्य स्त्री नहीं हैयह तो चुड़ैल है ! वह बहुत घबराया । चुड़ैलने उसको धमकी दी कि अगर तू किसीको मेरे बारेमें बतायेगा तो मैं तेरेको मार डालूँगी । इस तरह वह रोज रातमें आती और सबेरे चली जाती । सिपाहीका शरीर दिन-प्रतिदिन सूखता जा रहा था । लोग उससे पूछते कि भैया ! तुम इतने क्यों सूखते जा रहे हो क्या बात हैबताओ तो सही । परन्तु चुड़ैलके डरके मारे वह किसीको कुछ बताता नहीं था । एक दिन वह दूकानसे दवाई लाने गया । दूकानदारने दवाईकी पुड़िया बाँधकर दे दी । सिपाही उस पुड़ियाको जेबमें डालकर घर चला आया । रातके समय जब वह चुड़ैल आयीतब वह दूरसे ही खड़े-खड़े बोली कि तेरी जेबमें जो पुड़िया हैउसको निकालकर फेंक दे । सिपाहीको विश्वास हो गया कि इस पुड़ियामें जरूर कुछ करामात हैतभी तो आज यह चुड़ैल मेरे पास नहीं आ रही है ! सिपाहीने उससे कहा कि मैं पुड़िया नहीं फेकूँगा । चुड़ैलने बहुत कहापर सिपाहीने उसकी बात मानी नहीं । जब चुड़ैलका उसपर वश नहीं चलातब वह चली गयी । सिपाहीने जेबमेंसे पुड़ियाको निकालकर देखा तो वह गीताका फटा हुआ पन्ना था ! इस तरह गीताका प्रभाव देखकर वह सिपाही हर समय अपनी जेबमें गीता रखने लगा । वह चुड़ैल फिर कभी उसके पास नहीं आयी ।

   (शेष आगेके ब्लॉगमें)
‒‘दुर्गतिसे बचो’ पुस्तकसे


।। श्रीहरिः ।।

आजकी शुभ तिथि
श्रावण शुक्ल चतुर्थीवि.सं.२०७१गुरुवार
दुर्गतिसे बचो



 (गत ब्लॉगसे आगेका)
प्रश्न‒कौन-से मनुष्य मरनेके बाद भूत-प्रेत बनते हैं ?

उत्तर‒जिन मनुष्योंका खान-पान अशुद्ध होता है,जिनके आचरण खराब होते हैंजो दुर्गुण-दुराचारोंमे लगे रहते हैंजिनका दूसरोंको दुःख देनेका स्वभाव हैजो केवल अपनी ही जिद रखते हैंऐसे मनुष्य मरनेके बाद कूर स्वभाववाले भूत-प्रेत बनते हैं । ये जिनमें प्रविष्ट होते हैं,उनको बहुत दुःख देते हैं और मन्त्र आदिसे भी जल्दी नहीं निकलते ।

जिन मनुष्योंका स्वभाव सौम्य हैदूसरोंको दुःख देनेका नहीं हैपरन्तु सांसारिक वस्तुस्त्रीपुत्रधनजमीन आदिमें जिनकी ममता-आसक्ति रहती है, ऐसे मनुष्य मरनेके बाद सौम्य स्वभाववाले भूत-प्रेत बनते हैं । ये किसीमें प्रविष्ट हो जाते हैं तो उसको दुःख नहीं देते और अपनी गतिका उपाय भी बता देते हैं ।

जिनको विद्या आदिका बहुत अभिमानमद होता है;उस अभिमानके कारण जो दूसरोंको नीचा दिखाते हैं,दूसरोंका अपमान-तिरस्कार करते हैंदूसरोंको कुछ भी नहीं समझतेऐसे मनुष्य मरकर ‘ब्रह्मराक्षस’ (जिन्न) बनते हैं । ये किसीमें प्रविष्ट हो जाते हैंकिसीको पकड़ लेते हैं तो बिना अपनी इच्छाके उसको छोड़ते नहीं । इनपर कोई तन्त्र-मन्त्र नहीं चलता । दूसरा कोई इनपर मन्त्रोंका प्रयोग करता है तो उन मन्त्रोंको ये स्वयं बोल देते हैं ।

एक सच्ची घटना है । दक्षिणमें मोरोजी पन्त नामक एक बहुत बड़े विद्वान् थे । उनको विद्याका बहुत अभिमान था । वे अपने समान किसीको विद्वान् मानते ही नहीं थे और सबको नीचा दिखाते थे । एक दिनकी बात हैदोपहरके समय वे अपने घरसे स्नान करनेके लिये नदीपर जा रहे थे । मार्गमें एक पेड़पर दो ब्रह्मराक्षस बैठे हुए थे । वे आपसमें बातचीत कर रहे थे । एक ब्रह्मराक्षस बोला‒हम दोनों तो इस पेड़की दो डालियोंपर बैठे हैंपर यह तीसरी डाली खाली हैइसपर कौन आयेगा बैठनेके लिये दूसरा ब्रह्मराक्षस बोला‒यह जो नीचेसे जा रहा है न यह आकर यहाँ बैठेगाक्योंकि इसको अपनी विद्वत्ताका बहुत अभिमान है । उन दोनोंके संवादको मोरोजी पन्तने सुना तो वे वहीं रुक गये और विचार करने लगे कि अरे ! विद्याके अभिमानके कारण मेरेको ब्रह्मराक्षस बनना पड़ेगाप्रेतयोनियोंमे जाना पड़ेगा ! अपनी दुर्गतिसे वे घबरा गये और मन-ही-मन सन्त ज्ञानेश्वरजीके शरणमें गये कि मैं आपके शरणमें हूँआपके सिवाय मेरेको इस दुर्गतिसे बचानेवाला कोई नहीं है । ऐसा विचार करके वे वहींसे आलन्दीके लिये चल पड़ेजहाँ संत ज्ञानेश्वरजी जीवित समाधि ले चुके थे । फिर वे जीवनभर वहीं रहेघर आये ही नहीं । सन्तकी शरणमें जानेसे उनका विद्याका अभिमान चला गया और सन्त-कृपासे वे भी सन्त बन गये !

  (शेष आगेके ब्लॉगमें)
‒‘दुर्गतिसे बचो’ पुस्तकसे


।। श्रीहरिः ।।

आजकी शुभ तिथि
श्रावण शुक्ल तृतीयावि.सं.२०७१बुधवार
दुर्गतिसे बचो



 (गत ब्लॉगसे आगेका)
अगर कोई मनुष्य यह सोचे कि अभी तो मैं पाप कर लूँव्यभिचारअत्याचार कर लूँफिर जब मरने लगूँगा तब भगवान्‌का नाम ले लूँगाभगवान्‌को याद कर लूँगातो उसका यह सोचना सर्वथा गलत है । कारण कि मनुष्य जीवनभर जैसा कर्म करता हैमनमें जैसा चिन्तन करता है,अन्तकालमें प्रायः वही सामने आता है । अतः दुराचारी मनुष्यको अन्तकालमें अपने दुराचारोंका ही चिन्तन होगा और वह अपने पाप-कर्मोंके फलस्वरूप नीच योनियोंमें ही जायगाभूत-प्रेत ही बनेगा ।

अगर कोई मनुष्य काशीमथुरावृन्दावनअयोध्या आदि धामोंमें रहकर यह सोचता है कि धाममें रहनेसे,मरनेपर मेरी सद्‌गति होगी हीदुर्गति तो हो नहीं सकती;और ऐसा सोचकर वह पापदुराचारव्यभिचारझूठ-कपट,चोरी-डकैती आदि कर्मोंमें लग जाता है तो मरनेपर उसकी भयंकर दुर्गति होगी । वह अन्तिम समयमें प्रायः किसी कारणसे धामके बाहर चला जायगा और वहीं मरकर भूत-प्रेत बन जायगा । अगर वह धाममें भी मर जायतो भी अपने पापोंके कारण वह भूत-प्रेत बन जायगा ।

प्रश्न‒प्रेत-योनि न मिलेइसके लिये मनुष्यको क्या करना चाहिये ?

उत्तर‒मनुष्य-शरीर केवल परमात्मप्राप्तिके लिये ही मिला है । अतः मनुष्यको सांसारिक भोग और संग्रहकी आसक्तिमें न फँसकर परमात्माके शरण हो जाना चाहिये;इसीसे वह अधोगतिसेभूत-प्रेतकी योनिसे बच सकता है ।

प्रश्न‒भूत-प्रेत और पितरमें क्या अन्तर है ?

उत्तर‒ऐसे तो भूतप्रेतपिशाचपितर आदि सभी देवयोनि कहलाते हैं*पर उनमें भी कई भेद होते हैं । भूत-प्रेतोंका शरीर वायुप्रधान होता हैअतः वे हरेकको नहीं दीखते । हाँ, अगर वे स्वयं किसीको अपना रूप दिखाना चाहें तो दिखा सकते हैं । उनको मल-मूत्र आदि अशुद्ध चीजें खानी पड़ती हैं । वे शुद्ध अन्न-जल नहीं खा सकतेपरंतु कोई उनके नामसे शुद्ध पदार्थ दे तो वे खा सकते हैं । भूत-प्रेतोंके शरीरोंसे दुर्गन्ध आती है ।

पितर भूत-प्रेतोंसे ऊँचे माने जाते हैं । पितर प्रायः अपने कुटुम्बके साथ ही सम्बन्ध रखते हैं और उसकी रक्षा,सहायता करते हैं । वे कुटुम्बियोंको व्यापार आदिकी बात बता देते हैंउनको अच्छी सम्मति देते हैंअगर घरवाले बँटवारा करना चाहें तो उनका बँटवारा कर देते हैंआदि ।पितर गायके दूधसे बनी गरम-गरम खीर खाते हैंगंगाजल‒जैसा ठंडा जल पीते हैंशुद्ध पदार्थ ग्रहण करते हैं । कई पितर घरवालोंको दुःख भी देते हैंतंग भी करते हैं तो यह उनके स्वभावका भेद है ।

जैसे मनुष्योंमें चारों वर्णोंकाऊँच-नीचका,स्वभावका भेद रहता हैऐसे ही पितरभूतप्रेतपिशाच आदिमें भी वर्णजाति आदिका भेद रहता है ।

   (शेष आगेके ब्लॉगमें)
‒‘दुर्गतिसे बचो’ पुस्तकसे

____________________

* विद्याधराऽप्सरायक्षरक्षोगन्धर्वकिन्नराः ।
   पिशाचो गुह्यकः सिद्धो भूतोऽमी देवयोनयः ॥
                                        (अमरकोष १ । १ । ११)


।। श्रीहरिः ।।

आजकी शुभ तिथि
श्रावण शुक्ल द्वितीयावि.सं.२०७१मंगलवार
दुर्गतिसे बचो



 (गत ब्लॉगसे आगेका)
मनुष्यदेवतापितरयक्ष-राक्षसभूत-प्रेतपशु-पक्षी आदि सम्पूर्ण प्राणियोंमें हमारे प्रभु ही हैंइन प्राणियोंके रूपमें हमारे प्रभु ही हैं‒ऐसा समझकर (भगवद्‌बुद्धिसे) निष्कामभावपूर्वक सबकी सेवा की जाय तो परमात्माकी प्राप्ति हो जाती है ।

उपर्युक्त दोनों बातोंका तात्पर्य यह हुआ कि अपनेमें सकामभावका होना और जिसकी सेवा की जायउसमें भगवद्‌बुद्धि न होना ही जन्म-मरणका कारण है । अगर अपनेमें निष्कामभाव हो और जिसकी सेवा की जायउसमें भगवद्‌बुद्धि (भगवद्भाव) हो तो वह सेवा परमात्मप्राप्ति करानेवाली ही होगी ।

एक विलक्षण बात है कि अगर भगवान्‌की उपासनामें सकामभाव रह भी जाय तो भी वह उपासना उद्धार करनेवाली ही होती हैपर भगवान्‌में अनन्यभाव होना चाहिये । भगवान्‌ने गीतामें अर्थार्थीआर्तजिज्ञासु और ज्ञानी‒इन चारों भक्तोंको उदार कहा है (७ । १८)और ‘मेरा पूजन करनेवाले मेरेको ही प्राप्त होते हैं’ऐसा कहा है (७ । २३; ९ । २५) । मनुष्य किसी भी भावसे भगवान्‌में लग जाय तो उसका उद्धार होगा ही ।

देवता आदिकी उपासनाका फल तो अन्तवाला (नाशवान्) होता है (७ । २३)क्योंकि देवताओंके उपासक पुण्यके बलपर स्वर्गादि ऊँचे लोकोंमें जाते हैं और पुण्यके समाप्त होनेपर फिर लौटकर आते हैं । परंतु परमात्माकी प्राप्ति अन्तवाली नहीं होती (८ । १६)क्योंकि यह जीव परमात्माका अंश है (१५ । ७) । अतः जब यह जीव अपने अंशी परमात्माकी कृपासे उनको प्राप्त हो जाता है तो फिर वह वहाँसे लौटता नहीं ( ८ । २११५ । ६) । कारण कि परमात्माकी कृपा नित्य है और स्वर्गादि लोकोंमें जानेवालोंके पुण्य अनित्य हैं ।

ज्ञातव्य

प्रश्न‒भगवान्‌ने कहा है कि भूत-प्रेतोंकी उपासना करनेवाले भूत-प्रेत* ही बनते हैं (९ । २५)ऐसा क्यों ?

उत्तर‒भूत-प्रेतोंकी उपासना करनेवालोंके अन्तःकरणमें भूत-प्रेतोंका ही महत्त्व होता है और भूत-प्रेत ही उनके इष्ट होते हैंअतः अन्तकालमें उनको प्रेतोंका ही चिन्तन होता है और चिन्तनके अनुसार वे भूत-प्रेत बन जाते हैं । (८ । ६) ।

   (शेष आगेके ब्लॉगमें)
‒‘दुर्गतिसे बचो’ पुस्तकसे

______________

* जो यहाँसे चला जाता हैमर जाता हैउसको ‘प्रेत’ कहते हैं और उसके पीछे जो मृतक-कर्म किये जाते हैंउनको शास्त्रीय परिभाषामें ‘प्रेतकर्म’ कहते हैं । जो पाप-कर्मोंके फलस्वरूप भूतपिशाचकी योनिमें चले जाते हैंउनको भी ‘प्रेत’ कहा जाता हैअतः यहाँ पापोंके कारण नीच योनियोंमें गये हुएका वाचक ही ‘प्रेत’ शब्द आया है ।


।। श्रीहरिः ।।

आजकी शुभ तिथि
श्रावण शुक्ल द्वितीयावि.सं.२०७१सोमवार
श्रावण सोमवार-व्रत
दुर्गतिसे बचो



 (गत ब्लॉगसे आगेका)
(४) पितरोंके भक्त पितरोंका पूजन करते हैं और इसके फलस्वरूप वे पितरोंको प्राप्त होते हैं अर्थात् पितृलोकमें चले जाते हैंपितॄन्यान्ति पितृवताः (९ । २५) । (परंतु यदि वे निष्कामभावसे कर्तव्य समझकर पितरोंका पूजन करते हैं, तो वे मुक्त हो जाते हैं ।)

(५) राजस मनुष्य यक्ष-राक्षसोंका पूजन करते हैं (१७ । ४) और फलस्वरूप यक्ष-राक्षसोंको प्राप्त होते हैं अर्थात् उनकी योनिमें चले जाते हैं٭

(६) तामस पुरुष भूत-प्रेतोंका पूजन करते हैं (१७ । ४) । भूत-प्रेतोंका पूजन करनेवाले भूत-प्रेतोंको प्राप्त होते हैं अर्थात् उनकी योनिमें चले जाते हैं‒‘भूतानि यान्ति भूतेज्या’ (९ । २५)

गीतामें निष्कामभावसे मनुष्य, देवता, पितर, यक्ष-राक्षस आदिकी सेवा, पूजन करनेका निषेध नहीं किया गया है, प्रत्युत निष्कामभावसे सबकी सेवा एवं हित करनेकी बड़ी महिमा गायी गयी है (५ । २५, ६ । ३२, १२ । ४) । तात्पर्य है कि निष्कामभावपूर्वक और शास्त्रकी आज्ञासे केवल देवताओंकी पुष्टिके लिये, उनकी उन्नतिके लिये ही कर्तव्य-कर्म, पूजा आदि की जाय, तो उससे मनुष्य बँधता नहीं, प्रत्युत परमात्माको प्राप्त हो जाता है (३ । ११) । ऐसे ही निष्कामभावपूर्वक और शास्त्रकी आज्ञासे कर्तव्य समझकर पितरोंकी तृप्तिके लिये श्राद्ध-तर्पण किया जाय, तो उससे परमात्माकी प्राप्ति हो जाती है । यक्ष-राक्षस, भूत-प्रेत आदिके उद्धारके लिये, उन्हें सुख-शान्ति देनेके लिये निष्कामभावपूर्वक और शास्त्रकी आज्ञासे उनके नामसे गया-श्राद्ध करना, भागवत-सप्ताह करना, दान करना, भगवन्नामका जप-कीर्तन करना, गीता-रामायण आदिका पाठ करना आदि-आदि किये जायँ, तो उनका उद्धार हो जाता है, उनको सुख-शान्ति मिलती है और साधकको परमात्माकी प्राप्ति हो जाती है । उन देवता, पितर, यक्ष-राक्षस, भूत-प्रेत आदिको अपना इष्ट मानकर सकामभावपूर्वक उनकी उपासना करना ही खास बन्धनका कारण है; जन्म-मरणका, अधोगतिका कारण है ।

   (शेष आगेके ब्लॉगमें)
‒‘दुर्गतिसे बचो’ पुस्तकसे

____________________

٭ गीतामें भगवान्‌ने यक्ष-राक्षसोंके पूजनका तो वर्णन कर दिया‒‘यक्षरक्षांसि राजसाः’ (१७ । ४), पर उनके पूजनके फलका वर्णन नहीं किया । अतः यहाँ ऐसा समझना चाहिये कि जैसे देवताओंका पूजन करनेवाले देवताओंको ही प्राप्त होते हैं (९ । २५), ऐसे ही यक्ष-राक्षसोंका पूजन करनेवाले यक्ष-राक्षसोंको ही प्राप्त होते हैं । कारण कि यक्ष-राक्षस भी देवयोनि होनेसे देवताओंके ही अन्तर्गत आते हैं ।