।। श्रीहरिः ।।


आजकी शुभ तिथि
अधिक आषाढ़ पूर्णिमा, वि.सं.२०७२, गुरुवार
पूर्णिमा
भगवत्-तत्त्व


  (१७ जून २०१५ के ब्लॉगसे आगेका)
जैसे सूर्यका प्रकाश होता है; भगवान्‌के विग्रहका भी उसी तरह प्रकाश होता है; किंतु उसमें तीक्ष्णता, उष्णता और दुर्निरीक्ष्यता नहीं होती । भगवान्‌के विग्रहका प्रकाश सूर्यसे भी बहुत अधिक होता है, किंतु सूर्यकी तरह तीक्ष्णता नहीं होती; वह तो चन्द्रमाकी तरह नहीं, चन्द्रमासे भी अत्यन्त विलक्षण, सौम्य, शान्त, शीतल और नेत्राकर्षक होता है । वास्तवमें वह सूर्य-चन्द्रमा-जैसा ही नहीं है और न उसे सूर्य-चन्द्रमा प्रकाशित ही कर सकते हैं, भगवान्‌का प्रकाश इनसे बहुत विलक्षण होता है । भगवान् कहते हैं‒

न तद् भासयते सूर्यो न शशाङ्को न पावकः ।
यद् गत्वा न  निवर्तन्ते   तद्धाम  परमं  मम ॥
                                            (गीता १५ । ६)

जिस परमपदको प्राप्त होकर मनुष्य लौटकर संसारमें नहीं आते‒उस स्वयंप्रकाश परमपदको न सूर्य प्रकाशित कर सकता है, न चन्द्रमा और न अग्नि ही; वही मेरा परमधाम है (जो कि भगवत्स्वरूप ही है) ।’

वास्तवमें सूर्य-चन्द्रमा आदि भी तो भगवान्‌के प्रकाशसे ही प्रकाशित होते हैं, तब वे उसे कैसे प्रकाशित कर सकते हैं ? क्योंकि उनमें वह तेज भी भगवान्‌का ही तेज है ।

यदादित्यगतं  तेजो    जगद्  भासयतेऽखिलम् ।
यच्चन्द्रमसि यच्चाग्नौ तत् तेजो विद्धि मामकम् ॥
                                                 (गीता १५ । १२)

सूर्यमें स्थित जो तेज सम्पूर्ण जगत्‌को प्रकाशित करता है तथा जो तेज चन्द्रमामें है और जो अग्निमें है उसको तू मेरा ही तेज जान ।’

सूर्य, चन्द्रमाका प्रकाश तो पार्थिव पदार्थोंसे आवृत हो जाता है, अतः उससे छाया भी पड़ती है, परन्तु भगवद्विग्रहका प्रकाश, चाहे पहाड़ भी बीचमें क्यों न आ जाय, आवृत नहीं होता और न उससे छाया ही पड़ती है । वह प्रकाश दिव्य चिन्मय होता है और सूर्य-चन्द्रमाका प्रकाश भौतिक होता है ।

चितिशक्ति स्वयं आत्मस्वरूप है । वह बुद्धितत्त्वसे जाननेपर ज्ञानरूपसे प्रतीत होती है और वही नेत्ररूपसे दीखनेपर प्रकाशरूपसे प्रकट दीखने लगती है, तत्त्वतः वह चिति, भाति और प्रकाश एक ही वस्तु है ।

प्रेम-तत्त्व

वे निर्गुण आनन्दमय सर्वत्र परिपूर्ण परमात्मा ही प्रेमरूपसे साकार विग्रहके रूपमें प्रकट होते हैं । परमात्माका प्रेम बड़ा विलक्षण है । परमात्माका दिव्य विग्रह प्रेममय होता है, जिसके दर्शन करनेसे खर, दूषण, जरासन्ध-जैसे विरोधी जीवोंके भी चित्त उस ओर जबरन् खींचे जाते हैं । उनके उस प्रेममय विग्रहमें विलक्षण आकर्षण होता है ।

   (शेष आगेके ब्लॉगमें)
‒‘भगवन्नाम’ पुस्तकसे

|
।। श्रीहरिः ।।


आजकी शुभ तिथि
अधिक आषाढ़ शुक्ल चतुर्दशी, वि.सं.२०७२, बुधवार
नामजपकी विलक्षणता


  (गत ब्लॉगसे आगेका)
सांसारिक अथवा पारमार्थिक कोई भी क्रिया की जाय, वह जड़के द्वारा ही होती है । परन्तु लक्ष्य चेतन (परमात्मा) रहनेसे वह जड़ क्रिया भी चेतनकी ओर ले जानेवाली हो जाती है

कर्म चैव तदर्थीयं सदित्येवाभिधीयते ॥
                                         (गीता १७ । २७)

जहाँ हमारा लक्ष्य होगा, वहीं हम जायँगे । लक्ष्य परमात्मा है तो युद्धरूपी क्रिया भी परमात्मप्रासिका कारण हो जायगी । इतना ही नहीं, लक्ष्य चेतन होनेसे जड़ भी चिन्मय हो जायगा । जैसे, ‘मेरे तो गिरधर गोपाल दूसरो न कोई’इस प्रकार भगवान्का होकर भगवान्का भजन करनेसे मीराबाईका जड़ शरीर भी चिन्मय होकर भगवान्के श्रीविग्रहमें लीन हो गया ! अतः क्रिया भले ही जड़ हो, पर उद्देश्य जड़ (भोग और संग्रह) नहीं होना चाहिये ।

शास्त्रोंमें यहाँतक लिखा है कि पापी-से-पापी मनुष्य भी उतने पाप नहीं कर सकता, जितने पापाका नाश करनेकी शक्ति भगवन्नाममें है ! वह शक्ति ‘हे मेरे नाथ ! हे मेरे प्रभु !’ इस पुकारमें है । इसमें शब्द तो बाहरकी वाणीसे, क्रियासे निकलते हैं, पर आह भीतरसे, स्वयंसे निकलती है । भीतरसे जो आवाज निकलती है, उसमें एक ताकत होती है । वह ताकत उसकी होती है, जिसको वह पुकारता है । जैसे, बच्चा रोता है और माँको पुकारता है तो उसका माँके साथ भीतरसे घनिष्ठ सम्बन्ध होता है, इसलिये माँ ठहर नहीं सकती, दूसरा काम कर नहीं सकती । इसी तरह सच्चे हृदयसे भगवन्नामका उच्चारण करनेसे भगवान् ठहर नहीं सकते, उनके सब काम छूट जाते हैं ! तात्पर्य है कि भगवन्नामके जपमें एक अलौकिक विलक्षण ताकत है, जिससे जीवका बहुत जल्दी कल्याण हो जाता है । जब दुःशासन द्रौपदीका चीर खींचने लगा, तब द्रौपदीने ‘गोविन्द द्वारकावासिन् कृष्ण गोपीजनप्रिय’ कहकर भगवान्को पुकारा । पुकार सुनते ही भगवान् आ गये । पर उनके आनेमें थोड़ी-सी देरी लगी; क्योंकि द्रौपदीने भगवान्‌को ‘द्वारकावासिन्’ कहा तो भगवान्को द्वारका जाकर आना पड़ा । अगर वह ‘द्वारकावासिन्’ नहीं कहती तो थोड़ी-सी देरी भी नहीं लगती, भगवान् तत्काल वहीं प्रकट हो जाते !

एक भगवान् कृष्णका भक्त था और एक भगवान् रामका भक्त था । दोनोंने अपने-अपने इष्टदेवको पुकारा तो भगवान् कृष्ण बहुत जल्दी आ गये, पर भगवान् रामको आनेमें देरी लगी । कारण यह था कि भगवान्‌ राम राजाधिराज हैं । राजाओंकी सवारी आनेमें तो देरी लगती है, पर ग्वालेके आनेमें क्या देरी लगती है ? उसको आनेके लिये कोई तैयारी नहीं करनी पड़ती । यह भक्तका भाव है । अयोध्यामें एक सज्जन मिले थे । वे अपने पास एक बालरूप रामका चित्र रखा करते थे । उन्होंने कहा कि मैं तो बालरूप रामजीकी उपासना किया करता हूँ । महाराजाधिराज राजा रामकी उपासना करते हुए मेरेको डर लगता है कि वे राजा ठहरे, कोई कसूर हो जाय तो चट केदमें डाल देंगे ! परन्तु बालरूप रामको मैं धमका भी सकता हूँ, थप्पड़ भी लगा सकता हूँ ! यह भक्तोंकी भावनाएँ हैं ।

अगर मनुष्य नामजपको क्रियारूपसे न लेकर पुकाररूपसे ले तो बहुत जल्दी काम हो जायगा और भगवत्प्रेमकी, भगवत्सम्बन्धकी स्मृति जाग्रत् हो जायगी । संसारकी आसक्तिके कारण भगवत्प्रेम ढक जाता है । भगवान्को पुकारनेसे वह प्रेम प्रकट हो जाता है ।

नारायण !     नारायण !!     नारायण !!!

‒‘सत्यकी खोज’ पुस्तकसे

|
।। श्रीहरिः ।।


आजकी शुभ तिथि
अधिक आषाढ़ शुक्ल त्रयोदशी, वि.सं.२०७२, मंगलवार
नामजपकी विलक्षणता


  यज्ञ, दान, तप, तीर्थ, व्रत आदि तो क्रियाएँ हैं, पर भगवन्नामका जप क्रिया नहीं है, प्रत्युत पुकार है । जैसे किसीको डाकू मिल जाय और वह लूटने लगे, मारपीट करने लगे तो अपनेमें छूटनेकी शक्ति न देखकर वह रक्षाके लिये पुकारता है तो यह पुकार क्रिया नहीं है । पुकारमें अपनी क्रियाका, अपने बलका भरोसा अथवा अभिमान नहीं होता । इसमें भरोसा उसका होता है, जिसको पुकारा जाता है । अतः पुकारमें अपनी क्रिया मुख्य नहीं है, प्रत्युत भगवान्से अपनेपनका सम्बन्ध मुख्य है । सन्तोंने कहा है

हरिया बदीवान ज्यों, करियै कूक पुकार ।

जैसे किसीको जबर्दस्ती बाँध दिया जाय तो वह पुकारता है, ऐसे ही भगवान्को पुकारा जाय, उनके नामका जप किया जाय तो भगवान्के साथ अपनापन प्रकट हो जाता है । इस अपनेपनमें अर्थात् भगवत्सम्बन्धमें जो शक्ति है, वह यज्ञ, दान, तप आदि क्रियाओंमें नहीं है । इसलिये नामजपका विलक्षण प्रभाव होता है ।

भायँ कुभायँ अनख आलसहूँ ।
नाम जपत काल दिसि दसहूँ ॥
                                 (मानस, बाल २८ । १)

किसी भी प्रकारसे नामजप करते-करते यह विलक्षणता प्रकट हो जाती है । परन्तु भावपूर्वक, समझपूर्वक नामजप किया जाय तो बहुत जल्दी उद्धार हो जाता है

सादर सुमिरन  जे  नर करहीं ।
भव बारिधि गोपद इव तरहीं ॥
                                (मानस, बाल ११९ । २)

तात्पर्य है कि भावपूर्वक, लगनपूर्वक नामजप करनेसे संसारसमुद्र गोपदकी तरह बीचमें ही रह जाता है । उसको तैरकर पार नहीं करना पड़ता, प्रत्युत वह स्वतः पार हो जाता है और भगवान्के साथ जो नित्ययोग है, वह प्रकट हो जाता है ।

जैसे प्यास लगनेपर जलकी याद आती है तो वह याद भी जलरूप ही है, ऐसे ही परमात्माकी याद भी परमात्माका स्वरूप ही है । जड़ होनेके कारण जल प्यासेको नहीं चाहता, पर भगवान् स्वाभाविक ही जीवको चाहते हैं; क्योंकि अंशीका अपने अंशमें स्वाभाविक प्रेम होता है । कुआँ प्यासेके पास नहीं जाता, प्रत्युत प्यासा कुएँके पास जाता है । परन्तु भगवान् स्वयं भक्तके पास आते हैं । वास्तवमें तो भक्त जहाँ परमात्माको याद करता है, वहाँ परमात्मा पहलेसे ही मौजूद हैं ! अतः परमात्माको याद करना, उनके नामका जप करना क्रिया नहीं है । क्रिया प्रकृतिका कार्य है, पर नामजप प्रकृतिसे अतीत है । वास्तवमें उपासक (जापक) और उपास्यदोनों ही प्रकृतिसे अतीत हैं । अतः नामजपसे स्वयं परमात्माके सम्मुख हो जाता है; क्योंकि पुकार स्वयंकी होती है, मन-बुद्धिकी नहीं । इसलिये नामजप गुणातीत है ।

   (शेष आगेके ब्लॉगमें)
‒‘सत्यकी खोज’ पुस्तकसे

|
।। श्रीहरिः ।।



आजकी शुभ तिथि
अधिक आषाढ़ शुक्ल द्वादशी, वि.सं.२०७२, सोमवार
सन्त-महिमा


  (गत ब्लॉगसे आगेका)
वे सन्त जाते-जाते बोले कि ‘भाई ! जब भी कोई शंका हो तो यह मेरा पता है, जाना या मुझे समाचार कर देना, मैं जाऊँगा ।’ इसपर उन सज्जनने पूछा‘महाराज ! अभी आपको किसने समाचार भेजा था कि आप पधारिये ? तो वे सन्त बोले‘मेरा घोड़ा अड़ गया था, इसलिये मुझे आना पड़ा ।’ तो उन सज्जनने कहा‘अबकी बार फिर आपका घोड़ा अड़ जाय तब फिर आ जाना ।’ तात्पर्य यह है कि जब साधककी सच्ची जिज्ञासा होती है तो सन्तोंका घोड़ा अड़ जाता है

सन्तोंकी बात क्या ! स्वयं श्रीभगवान्के कानोंमें भी सच्ची पुकार तुरन्त पहुँच जाती है और वे किसी सन्तके साथ हमारी भेंट करा देते हैं

सच्चे हृदयकी प्रार्थना    जो  भक्त  सच्चा  गाय  है
तो भक्त-वत्सल कानमें वह पहुँच झट ही जाय है

जैसे टेलीफोन एक्सचेंज हमारी लाइन हमारे इच्छित व्यक्तिसे मिला देता है, उसी प्रकार भगवान् हमारी लाइन सन्तोंसे मिला देते हैं पर हमारी लगन सच्ची होनी चाहिये

हमारी सच्ची लगन हो तो भगवान्में शक्ति नहीं है कि वे हमारी लगनको ठुकरा दें हैं किसलिये भगवान् छोटा बालक है और माँ उसका पालन करे, तो माँ है किस लिये ? बालकके लिये ही तो माँ है इसी प्रकार यदि सन्त-महात्मा साधकोंको कुछ बात नहीं बतायेंगे तो वे जीते क्यों हैं ? उनका क्या उपयोग है ? सज्जनो ! जब वे अपना कार्य पूरा कर चुके, तो वे हमारे लिये ही हैं उनसे पूछकर हम अपना कल्याण कर लें इसीलिये हमें सच्ची जिज्ञासा बढ़ानी चाहिये सन्त-महात्माओंकी परीक्षा करनेकी जरूरत नहीं है हम सच्चे हृदयसे परमार्थ-मार्गमें चलेंगे, तो हमारा काम हो ही जायगा । इसमें सन्देह नहीं है

नारायण !     नारायण !!     नारायण !!!

‒‘सत्संगकी विलक्षणता’ पुस्तकसे

|